क्या क्या बदला ऐडमिशन प्रोसेस में

दिल्ली यूनिवर्सिटी में अंडरमैजुएट प्रोग्राम में इस बार कटऑफ लिस्ट की संख्या कम हो और ऐडमिशन प्रक्रिया 20 जुलाई तक खत्म हो जाए, इसके लिए ऐडमिशन कैंसल करने के मौके को कम से कम करने की कोशिश कर रहा है। इसके लिए यूनिवर्सिटी प्रशासन ने तय किया है कि स्टूडेंट्स को कुल कटऑफ लिस्ट से एक संख्या कम, ऐडमिशन कैंसल करने का मौका दिया जाएगा। साथ ही, एक कटऑफ लिस्ट पर एक से ज्यादा बार स्टूडेंट्स ऐडमिशन कैंसल नहीं कर सकेंगे। डीयू में नए सेशन से एक्स्ट्रा करिकुलर ऐक्टिविटी कोटे की सीटें बढ़ेंगी और स्पोर्ट्स की कुछ कम होंगी। दोनों कोटे के लिए कुल 5% अतिरिक्त सीटें रिजर्व होती हैं, जिनका बंटवारा कॉलेज अपनी सुविधा के हिसाब करते हैं। इस बार से हर कॉलेज को कम से कम 1% सीटें ईसीए के लिए रखना जरूरी होगा। 
डीयू ने तय किया है कि केवल उन्हीं गेम के कोटे के लिए शामिल किया जाएगा, जो कि ओलिंपिक्स, एशियाड और कॉमनवेल्थ में खेले जाते हैं। इस साल डीयू इसे लागू कर रहा है। 
अंडरग्रैजुएट प्रोग्राम में ऐडमिशन के लिए स्पोर्ट्स और ईसीए के स्टूडेंट्स को कटऑफ का इंतजार नहीं करना होगा बल्कि उनके ऐडमिशन प्रोसेस पहले ही शुरु हो जाएंगे। डीयू ईसीए और स्पोर्ट्स कैटिगरी को कटऑफ से अलग कर रहा है। ऐडमिशन कमिटी ने फैसला ले लिया है। 
डीयू के ईवनिंग कॉलेज इस बार ऐडमिशन शाम की पारी में नहीं बल्कि मॉर्निंग कॉलेजों की तरह सुबह ही करेंगे। डीयू की स्टैंडिंग कमियी में यह फैसला लिया गया है।    

अंडरग्रैजुएट प्रोग्राम में ऐडमिशन के लिए स्पोर्ट्स और ईसीए के स्टूडेंट्स को कटऑफ का इंतजार नहीं करना होगा बल्कि उनके ऐडमिशन प्रोसेस पहले ही शुरु हो जाएंगे। डीयू ईसीए और स्पोर्ट्स कैटिगरी को कटऑफ से अलग कर रहा है। ऐडमिशन कमिटी ने फैसला ले लिया है। 

डीयू इस बार से उन सब्जेक्ट को भी ऐकडेमिक सब्जेक्ट की लिस्ट में शामिल करेगा, जिन्हें स्टेट बोर्ड में ऐकडेमिक सबजेक्टर के तौर पर पढ़ाया जाता है। अब तक डीयू में बेस्ट फोर स्कोर कैलकुलेट करने के लिए सब्जेक्ट्स की दो लिस्ट होती हैं। 
कमिटी ने तय किया है कि इस बार स्ट्रीम बदलने वाले स्टूडेंट्स को नुकसान कम होगा। अब तक स्ट्रीम बदलने वाले स्टूडेंट्स के कटऑफ स्कोर में 5% नंबर काट लिए जाते हैं, मगर अब सिर्फ 2% मार्क्स ही कम किए जाएंगे। स्टूडेंट्स को इस फैसला से बहुत फायदा होगा। 

Related News